बच्चों को कैसे पढाये | बच्चों को घर पर पढाने के 10 Best तरीके |

बच्चों को कैसे पढाये ये एक सामान्य प्रश्न है। हर माता पिता अपने बच्चो कि शिक्षा के प्रति जागरूक है। इस लेख मे आप और हम कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों पर प्रकाश डालेगे। हम सभी जानेगे कि किस तरिके से हम और आप अपने बच्चों को अपने घर पर ही शिक्षित कर सकते है या उनके विध्यालय की पढ़ाई मे केसे मद्द कर सकते है ? यहा पर हम कुछ study Tips के बारे मे भी जानकारी हिंदी मे हाशिल कराएँगे| हम सभी जानेगे कि किस तरिके से हम अपने बच्चों को पढ़ाने के लिए कैसे प्रेरित करें (How to motivate child for Study ).

क्योँकि बिना सही दिशा और प्रेरणा के हमारे बच्चे अपनी पढ़ाई मे अच्छा नही कर सकते है| तो उनको समय-समय पर प्रेरित करते रहना चाहियें | और हम जानेगे के बच्चों कि शिक्षा मे रुचि बढ़ाने के लिये उनकों कौन कौन सी पुस्तकें देनी चहिये ? इस लेख मे आप बच्चो को पढ़ाने के तरिको को जनेगे। ये सम्पूर्ण जानकारी हिन्दी मे आपको प्राप्त होगी |

parents are teaching baby girl at home, how to teach a child at home,बच्चों को कैसे पढाये |
बच्चों को कैसे पढाये ?

बच्चों को कैसे पढाये, घर पर पढाने के 10 अनोखे तरीके एवम्‌ important Tips

  • प्यार भरी बातो से सुरुआत :‌‌- जैसा कि हम सब जानते है कि बच्चे हमेशा हमारे घर के उस सदस्य कि बात ज्यादा मनते है| जो उनसे प्यार बात करते है | मतलब जो बच्चो के दिल को जीत लेता है। अगर वो व्यक्ति उनकों पढाई के लिये बोले तो बच्चे पढ़ाई के लिये जल्दी तैयार हो जाते है। और ज्यादा एकाग्रता के साथ शिक्षा ग्रहण करते है । तो सबसे पहले बच्चो का दिल जीते जोकि सिर्फ प्यार और विनम्रता से ही संभव है। ऐसा करने के बाद आप का बच्चा पढ़ाई मे ज्यादा ध्यान दे पाएगा |

  • बच्चे के प्रयासो की सरहाना करे :- जब भी अपका बच्चा शिक्षा मे कोइ भी प्रयास करें| तो हमेशा उसके (efforts) प्रयासों के बदले उसको सबासी दे| उसको बोले कि Good , Keep it Up , बोले कि आपने बहुत अच्छा काम या प्रयास किया है| ऐसा बोलने से आपके बच्चे का मनोबल (Confidence) बढ़ेगा और वो भविष्य मे और ज्यादा लगन और मेहनत से पढाई पर ध्यान देगा। बच्चे को हमेशा ये महशुस कराए कि वो पढ़ाई जो प्रयास कर रहा है वो बहौत ही अच्छा और उच्च स्तर का है | तो हमारा बच्चा सरहाना मिलने के बाद और अधिक प्रयास करेगा ।

  • बच्चे की पढाई मे मद्द करे:- अपने बच्चे को हमेशा अपने पास बैठा कर उनसे बात करे| उसके पाठ्यक्रम जेसे उसके पाठ (Chapter) के बारे मे, कि उसके कितने Chapter हो चुके है?और कौन-कौन से उसको पुरी तरह से आते है| और कौन से chapter उसे नही आते है। जो chapter आपके बच्चे को आते है| उनका Revision कराए| जो chapter या जो सावल (Question) उसे नही आते उनको उसे पढ़ाए | ताकि हमारा बच्चा अपने सभी पाठो मे निपुण हो सके| उसको अच्छी किताबो के बारे मे बताएँ और समझाएँ कि ये किताबे उसकी कितनी मद्द कर सकती है।

  • लेखन अभ्यास (Writing Practice) :- हम आमतौर पर अपने बच्चों को केवल पढना और किसी भी प्रश्न को याद रखना सिखाते है | लेकिन लिखने का अभ्यास नही कराते है| जिस कारण वो परीक्षा(Exam) मे सही जवाब आते हुए भी नही लिख पाटइ हैं | इसका सिर्फ एक कारण है कि हमारे बच्चों को लिखने का सही अभ्यास नही होता है | तो रोजाना अपने बच्चे को लिखने का अभ्यास (writing practice) कराए | ताकि हमारा बच्चा असानी से परीक्षा (Exam) मे समय रहते ही पुरा पेपर लिखने मे सक्षम हो |

  • बच्चो की पढाई के लिए समय सारणी (Time Table) :-  हम सब लोग हमारे बच्चो की पढ़ाई पर पुरा ध्यान तो देते है कि हमे अपने को किस स्कूल मे पढ़ाना और कैसे ? लेकिन हम अपने बच्चो के लिये समय सारणी बनाना भूल जाते है| जोकि सबसे महत्व्पुर्न है | समय सारणी बनाने से सब कुछ तय होता है| कि हमरा बच्चा कितने समय तक पढ़ेगा (Study timing), कितने समय तक खेलेगा (Sports Timing), सोना, खाना आदि ।

  • परीक्षा परिणाम पर कभी भी अपने बच्चे का मनोबल न गिराएं :- आमतौर पर सभी माता पिता की ये इच्छा होती है कि हमारा बच्चा परीक्षा मे अच्छे अंक लेकर आये | और ऐसा होना भी चाहियें| लेकिन अच्छे अंको के लिये अपने बच्चे के ऊपार कभी जोर नही डालना चाहिये| क्योकि अगर हम ऐसा करते है तो हो सकता है कि हमारा बच्चा अच्छा न कर पाए | सबसे महत्वपूर्ण बात कि Exam result आने पर कभी अपने बच्चे को पीटना या धम्काना नही चाहिये | ऐसा करने से हम अपने बच्चे का मनोबल कम कर रहे होते है | जोकि हमारे बच्चे के भविष्य के लिये हानिकारक हो सकती है। हम सभी आज से ही अपने बच्चो के परिणाम आने पर उनकों भविष्य मे और अच्छा करने के लिये प्रेरित (Motivate) करेगे |

  • अपने बच्चे के आसपास अध्ययन का माहौल बनाएं:- आज के इस लेख की सबसे महत्वपूर्ण study tip है| कि आप अपने बच्चे के आसपास अध्ययन का माहौल बनाएं | सबसे ज्यादा हमारा बच्चा अपने चारों तरफ की चीजो को देख कर ही सीखता है| तो हमे अपने बच्चे के room कक्ष को पूर्ण रुप से आकर्षित बनाना है | इसके लिये हम उनके कमरे मे Study Chart, Counting chart, Hindi chart, लगा सकते है। छोटे बच्चों को पढ़ाने के लिये उनकों picture book दे। छोटे बच्चों से हमेशा सही भाषा मे बात करे क्योकि बच्चे हमेशा आपको सुनकर ही सीखते है। ये सबसे महत्व्पुर्ण तरिका है जिससे हमे हमारे प्रशन बच्चों को कैसे पढाये का सही उत्तर मिला है ।

  • जरुरी खेल :- जैसा कि हम जानते है| कि छोटे बच्चे खेल Sports Activity मे ज्यादा ध्यान देते है| अगर हम अपने छोटे बच्चों को पढ़ाने चहते है| तो हमे उनकों रोजाना खेल खिलाना चाहिये । अगर हम ऐसा करते है तो हमारे बच्चे का पुरे दिन का मानशिक तनाव कम हो जएगा | और वो दोवारा पढाई करने के लिये तैयार हो जाएगा | और रोजाना खेल game खेलने से हमारे बच्चे का शारीरिक विकाश भी बहुत तेजी से होगा | अपने बच्चो को घर पर बाँध कर कभी न रखें ।

  • बच्चों के लिये महत्वपूर्ण किताबें (Important books for kids) :– हम अपने छोटे बच्चो को पढ़ाने के लिये अनेक प्रकार की किताबो का प्रयोग कर सकते है जैसे कि चित्र वाली किताबे, जिन किताबो के अंदर शब्दो के साथ-साथ चित्र भी दिये होते है। इन किताबो से बच्चे जल्दी पढ़ाई करना सीखते है |बच्चों को कैसे पढाये|

  • बच्चों के लिये पौष्टिक आहार :- हम सब माता पिता अपने बच्चों को सिर्फ पढ़ाई के लिये प्रेरित करते रहते है लेकिन हम भूल जाते है कि “एक स्वस्थ्य शरीर मे ही एक स्वस्थ्य दिमाग का निवास होता है” । हमे अपने बच्चे के स्वस्थ्य का पूरा ध्यान रखना चहिये | हमारे सभी माता पिता की ये जिम्मेदारी है कि वो अपने बच्चे को हमेश शुद्ध और पौष्टिक भोजन खिलाएँ ताकि हमारे बच्चे का स्वास्थ्य हमेशा ठीक रहे | आगर हमारे बच्चे का स्वथ्य ठीक रहेगा तो वो पढ़ाई मे ज्यादा एकाग्रता concentration कर सकता है ।

  • छोटे बच्चों का होमवर्क कराए :‌‌- छोटे बच्चों को होमवर्क कराना थोड़ा मुशकिल होता है| क्युकि छोटे बच्चे अपनी मर्जी से पढ़ाई करते है । तो ऐसे मे अपने बच्चो से प्यार से बात करे, और उनको होमवर्क करने के लिये राजी करे। अगर अपका बच्चा छोटा है तो उसका होमवर्क अपने हाथ से पकड़ कर कराए । एक दो बार अपने हाथ से कराए उसके बाद बच्चे खुद करने दे।

घर पर बच्चों की पढाई कराने के माध्यम बच्चों को कैसे पढाये :

  • अपने बच्चो को आप kid online classes के माध्यम से पढ़ा सकते है ।
  • आप अपने बच्चो को YouTube के विडियो के माध्यम से पढ़ा सकते है ।
  • माता पिता अपने बच्चो को website ReadGK के माध्यम से पढ़ा सकते है ।
  • मेरा लेखक पूजा का सभी माता पिता से अनुरोध है| कि आप कृपया अपने बच्चो को मोबाइल फोन से दूर रखे | ये मेरा व्यक्तिगत मानना है ।

लेखक की ओर से बच्चों को कैसे पढाये

मुझे लगता है कि हम सब अब जान चुके है कि हम अपने बच्चों को कैसे पढाये । मेरा आप सभी अभिभवको से विनम्र निवेदन है कि आप मुझे जरुर बताएँ कि अपको ये लेख कैसा लगा । आगर इस लेख मे किसी प्रकार से सुधार हो सकता है तो आप हमे नीचे comment box मे जरुर लिखे । धन्यवद

इन्हे भी पढ़ सकते है:

दोस्तों के साथ Share जरूर करें

1 thought on “बच्चों को कैसे पढाये | बच्चों को घर पर पढाने के 10 Best तरीके |”

  1. Pingback: Past indefinite Tense in Hindi | 500+ example, Rules, Exercise| Read GK | विद्वान सर्वत्र पूज्यन्ते

Leave a Comment

Your email address will not be published.